*मुक्त-मुक्तक : 40 - सबसे सज़्दा न...............


सबसे सज़्दा 
न सरे आम करो ॥ 
ज्यादा झुक झुक के 
मत सलाम करो ॥ 
सर उठाकर मिलाओ
 हाथ अपना ,
मत खुशामदियों जैसे 
काम करो ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्तक : 946 - फूल