*मुक्त-मुक्तक : 42 - शबनम चाट-चाट के................




शबनम चाट-चाट के अपनी प्यास बुझाता हूँ ॥
तेज़ धूप में अपनी रोटी दाल पकाता हूँ ॥
ऊँट के मुंह में जीरे जितनी अल्प कमाई में ,
ज़िंदा रहने की कोशिश में मर-मर जाता हूँ ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा