Wednesday, February 13, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 48 - हम किसी की न................


हम किसी की न निगाहों में 
कभी जम पाए ॥ 
हम किसी दिल में न दो दिन से ज्यादा 
थम पाए ॥ 
हर जगह अपनी ग़रीबी 
अड़ी रही आगे , 
कोई फ़र्माइशे महबूब 
उठा न हम पाए ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...