*मुक्त-मुक्तक : 46 - देकर दवाएँ नींद की.....................


देकर दवाएँ नींद की कहते हैं सोओ मत ॥ 
सुइयाँ चुभो चुभो के बोलते हैं रोओ मत ॥ 
ये किस तरह के लोग हैं करते हैं उल्टी बात ,
कहते हैं फ़स्ल पर लो फ़स्ल किन्तु बोओ मत ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Sooraj Goswami said…
kya baat kya baat kya baat...........
Brijesh Singh said…
वाह क्या बात है!
Umesh Chandra said…
बहुत सुन्दर मुक्तक है,बधाई
धन्यवाद ! Sooraj Goswami जी !
धन्यवाद ! Brijesh Singh जी !
धन्यवाद ! Umesh Chandra जी !
Anonymous said…
It's difficult to find knowledgeable people in this particular
topic, but you seem like you know what you're talking about!
Thanks

Here is my web site; this domain

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे