21(B) : मुक्त-ग़ज़ल - कोई भी शर्त रख ले पर...............



कोई भी शर्त रख ले पर तू ख़ुद को सौंप दे मुझको ॥ 
उड़ा दे मुझको गोली से या चाकू घोंप ले मुझको ॥   
भटकता फिर रहा हूँ बीहड़ों में ज़िंदगानी के ,
न दे बेशक़ कोई मंज़िल दिखा दे रास्ते मुझको ॥ 
न करना याद रब दी सौं गिला कोई नहीं होगा ,
भुलाना भूलकर भी मत ख़ुदा के वास्ते मुझको ॥ 
न ऐसे खिलखिलाके मुझसे कर बातें तू लग लग के ,
तजुर्बे अब नहीं धोखा धड़ी के *रासने मुझको ॥ 
मेरी गज़ भर ज़ुबाँ है तुझको गर ऐसा लगे तो सुन ,
ग़ज़ल भी मैं कहूँ तो आगे बढ़कर टोक दे मुझको ॥
अगर चाहे मैं टुकड़े-टुकड़े से फिर एक हो जाऊँ ,
तो दे कुछ ताक़तें , कुछ हिम्मतें , कुछ हौसले मुझको ॥ 
मेरा आँगन सड़क-फ़ुटपाथ नीला आस्माँ छप्पर ,
तरस मत खा या कर ख़ैरात इक-दो झोपड़े मुझको ॥
( *रासने = स्वाद लेना )
 -डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म