*मुक्त-मुक्तक : 30 - हम जो होते हैं..............


हम जो होते हैं वो दुनिया को कब दिखाते हैं ॥ 
मिर्च होते हैं मगर गुड़ शहद बताते हैं ॥ 
क्योंकि कब झाँकती है रूह किसी की दुनिया ,
इसलिए जिस्म ही भरपूर सब सजाते हैं ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म