*मुक्त-मुक्तक : 28 - किसी के व्यक्तिगत............

किसी के व्यक्तिगत जीवन में हस्तक्षेप मत करिए ॥
झकाझक साफ़ चेहरों पर यूँ श्यामल लेप मत करिए ॥
वो प्रेमी - प्रेमिका हैं हक़ है उनका मस्त बातों का ,
कभी छिपकर के टेलीफ़ोन उनका उनका टेप मत करिए ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

ha bhai, tanka jhaki mat kijiye
धन्यवाद ! Dr Arun Sikarwar जी ।

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा