*मुक्त-मुक्तक : 38 - जब सच्चाई कहने..................


जब सच्चाई कहने हम 
मजबूर हुए थे ॥ 
सच बदनामी की हद तक 
मशहूर हुए थे ॥ 
कहने को ही सही मगर थे 
जितने शहर के ,
मेरे सारे दोस्त 
करीबी दूर हुए थे ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

धन्यवाद ! Dr Arun Sikarwar जी ।

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी