*मुक्त-मुक्तक : 29 - सारी दुनिया में..................


सारी दुनिया में अमन चैन कैसे क़ायम हो ॥
घर किसी के न कभी भूले कोई मातम हो ॥
सोचता हूँ कि क्या उपाय करूँ मैं जिससे ,
सारे चेहरे खिलें ओ बाग़ बाग़ आलम हो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी