*मुक्त-मुक्तक : 74 - जहां रोना फफक.............


जहाँ रोना फफक कर हो वहाँ दो अश्क़ टपकाऊँ ॥

ठहाका मारने के बदले बस डेढ़ इंच मुस्काऊँ ॥ 

दिमागो दिल पे तारी है किफ़ायत का जुनून इतना ,

जो कम सुनते हैं उनसे भी मैं धीमे धीमे बतियाऊँ ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Pratibha Verma said…
बहुत सुन्दर ....

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी