Wednesday, February 27, 2013

57 : ग़ज़ल - हर सिम्त जुल्मो



हर इक सिम्त ज़ुल्मो सितम हो रहा है ॥
जिसे देखो गरमा गरम हो रहा है ॥
ख़ुदा मानकर पूजता हूँ जिसे मैं ,
वो पत्थर न मुझ पर नरम हो रहा है ॥
शगल जिसका कल तक था मुझको हँसाना ,
अब उसके ही हाथों सितम हो रहा है ॥
बहुत ख़ुश था शादी के पहले जो मुझसे ,
वो नाराज़ हरदम सनम हो रहा है ॥
कमाते थे बाहर तरसते थे घर को ,
निठल्ले हैं घर पर तो ग़म हो रहा है ॥
जो है आजकल मुझसे बर्ताव उसका ,
वो अब भी है मेरा वहम हो रहा है ॥
यकीं था कि वो नाम रोशन करेगा ,
वो छूई-मुई बेशरम हो रहा है ॥
मेरी ज़िंदगी में असर उसका पूछो ,
था पहले बियर अब वो रम हो रहा है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

No comments:

मुक्तक : 941 - बेवड़ा

लोग चलते रहे , दौड़ते भी रहे ,  कोई उड़ता रहा , मैं खड़ा रह गया ।। बाद जाने के तेरे मैं ऐसी जगह ,  जो गिरा तो पड़ा का पड़ा रह गया ।...