Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Tuesday, February 26, 2013

56 : मुक्त-ग़ज़ल - मुझको जीने की............


  मुझको जीने की मत दुआ दो तुम ॥
  हो सके दर्द की दवा दो तुम ॥
  क्यों हुआ ज़ुर्म मुझसे मत सोचो ,
  जो मुक़र्रर है वो सज़ा दो तुम ॥
  मुझको अपना समझ रहे हो तो ,
  अपने सर की हर इक बला दो तुम ॥
  मैंने तुमको बहुत पुकार लिया ,
  कम से कम अब तो इक सदा दो तुम ॥
  यूँ न फूँको कि बस धुआँ निकले ,
  ख़ाक कर दो या फिर बुझा दो तुम ॥
  रखना क़ुर्बाँ वतन पे धन दौलत ,
  गर ज़रूरत हो सर कटा दो तुम ॥
  वो जो इंसाँँ बनाते हैं उनको ,
  कुछ तो इंसानियत सिखा दो तुम ॥
  फँस गया हूँ मैं जानते हो गर ,
  बच निकलने का रास्ता दो तुम ॥
  -डॉ. हीरालाल प्रजापति 

4 comments:

Dr. Rakesh Srivastava said...

Ye rachna umda hone ke saath - saath aapka blog utna aakarshak hai , jitna ki saaj - sajja se hona chaahiye . Aap yadi saNyam se seemit kintu yojna baddh lekhan kareN to aap adhik jaane jaayeNge . Aapko shubhkaamnaayeN .

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! Dr.Rakesh Srivastava जी !

shishirkumar said...

Dr sahab Aapki Gazal padhkar Mir Taki Mir ke Gazalon ki yad aati hai

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

बहुत बहुत धन्यवाद ! shishirkumar जी !