54 : मुक्त-ग़ज़ल - बहुत चाहत है.......................


बहुत चाहत है कुछ बोलूँ मगर बस कहना मुश्किल है ॥
ज़ुबाँ खुलती नहीं और बिन कहे रहना भी मुश्किल है ॥
हैं माहिर लोग ग़ैरों को भी सब अपना बनाने में ,
यहाँ अपनों को भी अपना बनाए रखना मुश्किल है ॥
कहाँ होती हैं दुनिया में सभी की ख़्वाहिशें पूरी ,
अधूरे ख़्वाब लेकर ज़िंदगी जी सकना मुश्किल है ॥
न कर नाहक़ लतीफ़ागोई मैं ग़मगीन हूँ इतना ,
हँसी की बात पर भी आज मेरा हँसना मुश्किल है ॥
करो करते रहो मुझ पर जफ़ा जी भर इजाज़त है ,
सितम तो जब कोई अपना करे तब सहना मुश्किल है ॥
चपत दिखलाएगा दुश्मन तो मैं तो लात जड़ दूँगा ,
मेरा इस दौर में गाँधी सरीखा बनना मुश्किल है ॥
बहुत आसान है देना बहुत अच्छी सलाहें भी ,
मगर हालात के मारों का उन पर चलना मुश्किल है ॥
अगर जाना है रेगिस्तान फ़ौरन ऊँट बन जाओ ,
वहाँ मेंढक या मछली का क़दम भर चलना मुश्किल है ॥
( लतीफ़ागोई = चुटकुला सुनाना )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Umesh Chandra said…
apki her rachna dil ko cho jati hai..............yah rachna bhut hi pasnd aai....
.badhi
धन्यवाद ! Umesh Chandra जेआई !
Anonymous said…
I have been exploring for a little for any
high quality articles or weblog posts on this sort
of area . Exploring in Yahoo I ultimately stumbled upon this website.
Reading this information So i'm satisfied to exhibit
that I've an incredibly just right uncanny feeling I found
out just what I needed. I so much for sure will
make sure to do not overlook this web site and give it a glance regularly.


Also visit my site; domain

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक