*मुक्त-मुक्तक : 54 - किसी सूरत में................



किसी सूरत में इश्क़-ओ-आशिक़ी लिल्लाह मत करना ॥ 
अगर हो जाये फ़िर अंजाम की परवाह मत करना ॥ 
यक़ीनन जिसको चाहोगे उसे तुम पाओगे इक दिन ,
वलेकिन एहतियातन ख़ुद से ऊँची  चाह मत करना ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक