*मुक्त-मुक्तक : 51 - महबूबा महँगी हुई................




        महबूबा महँगी हुई और बड़ी शौक़ीन ॥            
दिखने में अति श्याम पर स्वप्न सभी रंगीन ॥
आशिक़ फ़िर भी कर रहा हर फ़र्माइश पूर्ण ,
ख़ुद का चश्मा बेच उसे सौंप रहा दुर्बीन ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे