Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Monday, February 18, 2013

48 : मुक्त-ग़ज़ल - जहाँ आग लगी हो.................


जहाँ आग लगी हो वहाँ दमकल की पहुँच हो ॥ 
जहाँ शीत लहर हो वहाँ कंबल की पहुँच हो ॥ 
दरिया के किनारे नहीं तालाब ज़रूरी ,
जिस घर कुआँ नहीं वहाँ पे नल की पहुँच हो ॥ 
कपड़े न सही , छत न सही पर ग़रीब तक ,
रोज़ाना दाल रोटी औ' चावल की पहुँच हो ॥ 
जिनकी न रपट भी कोई लिखता है ख़ुद उन तक ,
थाने की , अदालत की औ' दल बल की पहुँच हो ॥ 
गुलशन वो क्या जहाँ पे सुबह-शाम-रात-दिन ,
बुलबुल न तोता मैना न कोयल की पहुँच हो ॥ 
बदबू से जहाँ साँस का लेना हो बमुश्किल ,
उन बस्तियों में धूप की गुग्गल की पहुँच हो ॥ 
कुछ ऐसा इंतज़ाम हो बच्चों के हाथ में ,
गुटखे न तंबाकू की न बोतल की पहुँच हो ॥ 
इतना अमीर मुल्क़ को कर दे मेरे ख़ुदा , 
अंधे के हाथ में भी सिजंजल की पहुँच हो ॥ 
(गुग्गल=सुगंधित द्रव्य , सिजंजल=आईना )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

11 comments:

gope mishra said...

bahut shandaar dil ko chooti kruti****badhaai shriman

Dr. Hiralal Prajapati said...

बहुत बहुत धन्यवाद ! gope mishra जी !

kshitij said...

very nice.....

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! Kshitij जी !

shishirkumar srivastava. said...

'Itna amir mulk ko kade mere khuda'
Dhanyabad Dr sahab gajal bahut hasin hai.


Shishirkumar

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! shishirkumar srivastava जी !

mahesh soni said...

वाह मित्र डा. हीरालाल जी.. बहुत खूब

mahesh soni said...
This comment has been removed by the author.
डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! mshesh soni जी !

Xhitiz Sharma said...

waaahhh waaaahh

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! Xhitiz Sharma जी !