*मुक्त-मुक्तक : 13 - वस्त्रविहीनों से............


वस्त्र-विहीनों से पूछो 
सर्दी में स्वेटर का मतलब ॥
फ़ुटपाथों पर रहने वालों से
 पूछो घर का मतलब ॥
जिनको इक भी जून 
मयस्सर नहीं भात दो कौर रहे ,
उनसे पूछो घूरे की 
जूठन मुट्ठी भर का मतलब ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Kailash Sharma said…
बहुत सटीक प्रस्तुति...
धन्यवाद ! Kailash Sharma जी !

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक