*मुक्त-मुक्तक : 10 - उसने लुक छिप के..............


उसने लुक-छिप के नहीं 
खुल के सरे-राह किया ॥
था तो मासूम 
वलेकिन बड़ा गुनाह किया ॥
जाने हालात क्या 
पेश आए उसके साथ ग़ज़ब ,
अस्पताल एक 
चारागर ने क़त्ल-गाह किया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा