23. मुक्त-ग़ज़ल : इस कदर नीचता.............



 इस  क़दर  नीचता  नंगपन  छोड़  दो।।
लूटलो सब कमजकम कफ़न छोड़ दो।।
इसमें रहकर इसी की बुराई करें ,
ऐसे लोगों हमारा वतन छोड़ दो।।
हो बियाबान के दुश्मनों कुछ रहम ,
यूं लहकते महकते चमन छोड़ दो।।
उनकी खातिर जो चिथड़े लपेटे फिरें ,
एक दो क़ीमती पैरहन  छोड़ दो।।
दम हो जाकर दिखाओ जलाकर उन्हें ,
उनके भूसे का पुतला दहन छोड़ दो।।
ले लो ले लो मेरी जान तुम शौक़ से .
मेरा मर मर के जोड़ा ये धन छोड़ दो।।
नाम ही नाम हो ज़िन्दगी न चले ,
ऐसा हर शौक़ हर एक फ़न छोड़ दो।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे