Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Saturday, January 19, 2013

11. मुक्त-ग़ज़ल : किसी बात का कब......................


किसी बात का कब बुरा मानता हूँ  II
तुझे तो मैं अपना  खुदा मानता हूँ II
मेरी कामियाबी का क्या राज़ खोलूँ ,
इसे  तो  मैं  तेरी  दुआ मानता हूँ II
मेरा तू जो चाहे वो हँसकर उठाले ,
मेरा तो मैं सब कुछ तेरा मानता हूँ II
जो मैं चाहता हूँ वो सब कुछ है तुझमें ,
तुझे अपनी खातिर बना मानता हूँ II
नया कुछ नहीं है तेरा मेरा मिलना ,
ये जन्मों का मैं सिलसिला मानता हूँ II
भले दूर से दूर तुम हो वलेकिन ,
मैं कब खुद को तुझसे जुदा मानता हूँ II
मिलो न मिलो इसकी परवाह क्या अब ,
दिल-ओ-जाँ तुझे जब दिया मानता हूँ II
तेरी बेनियाज़ी को तेरी क़सम है ,
मैं परवाह की इंतिहा मानता हूँ II
[ वलेकिन=किन्तु  ;बेनियाज़ी=उपेक्षा ]
  -डॉ. हीरालाल प्रजापति 

5 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर ग़ज़ल लिखी है आपने...!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

हम भी प्रजापति ही हैं मान्यवर..!

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी !

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

आप भी प्रजापति हैं जानकर खुशी हुई........डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री जी !

Anonymous said...

Hello there! This blog post could not be written any better!
Looking through this article reminds me of my previous roommate!
He constantly kept talking about this. I will send this article to him.
Pretty sure he's going to have a great read. I appreciate you for sharing!


Here is my blog post ... Lose Weight Fast (Scotdcbravo.Bravesites.Com)