Posts

Showing posts from 2012

सन्डे हो या मंडे खाओ मुर्गा मछली अंडे

      पौर्वात्यशिष्टाचारकहताहैकिहमेंकिसीव्यक्तिकेखानेपीनेकीबुराईनहींकरनाचाहिए I  अतःसभ्यहोनेकेनातेहमेंचाहिएकिहम माँसभक्षियोंकेआगेमुर्गामटनकीअथवासुराप्रेमियोंकेसामनेशराबकीनिंदाकदापिनकरेंक्योंकिमुझेयकीनहैकियदिखानपानकोधर्म / जातिसेजोड़करनदेखाजायेतोमेरेतमामपण्डे-जैनी(शाकाहारी) मित्रमुर्ग-मुसल्लम,