Posts

मुक्त मुक्तक : 899 - ग़ुस्सा

Image
मेरे ग़ुस्से को फूँक - फूँक मत हवा दे तू ।। मैं भड़क जाऊँ उससे पहले ही बुझा दे ।। मैं बरस उट्ठा तो दुनिया बहा के रख दूँगा , अब्र को मेरे नीला आसमाँ बना दे तू ।। -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्त मुक्तक : 898 - ज़ुर्म

Image
ज़ुर्म वो साज़िशन रोज़ करते रहे ।।
दूसरे उसका ज़ुर्माना भरते रहे ।।
ज़ख़्म तो फूल ही दे रहे थे मगर ,
सारा इल्ज़ाम काँटों पे धरते रहे ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्त मुक्तक : 897 - मैं कहाँ हूँ ?

Image
दिख रहा सबको वहीं बैठा जहाँ हूँ ।।
हूँ वहीं पर वाँ मगर सचमुच कहाँ हूँ ?
दिल मेरा आवारगी करता जिधर है ,
दरहक़ीक़त मैं यहाँ कब ? मैं वहाँ हूँ ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्त मुक्तक : 896 - देखते हैं

Image
कि बेख़ौफ़ हो हम न डर देखते हैं ।। मचल कर तेरी रहगुज़र देखते हैं ।। तू दिख जाए खिड़की पे या अपने दर पर , तेरे घर को भर-भर नज़र देखते हैं ।। -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्त मुक्तक : 895 - मुस्कुराहट

Image
लोग कहते हैं मैं मुस्कुराता नहीं ।।
मैं ये कहता हूँ मैं कुछ छुपाता नहीं ।।
हर तरफ़ मुश्किलें , बंद राहें सभी ;
कौन ऐसे में फिर मुँह बनाता नहीं ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्त मुक्तक : 894 - ख़्वाब

Image
नींद नहीं जब-जब आती 
तब-तब बस ऐसे सोता मैं ।।
लेटे-लेटे आँखें खोले 
सौ-सौ ख्व़ाब पिरोता मैं ।। 
भूले भटके सच हो जाएँ 
तो नच-नच पागल न बनूँ ,
चूर-चूर हो जाएँ तो भी 
ज़रा न रोता-धोता मैं ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्त ग़ज़ल : 274 - सिर पे आफ़्ताब

Image
न जब नशा मैं करूँ साथ क्यों शराब रखूँ ? 
लगे न प्यास तो हाथों में फिर क्यों आब रखूँ  ?
मैं सख़्त उम्मी हूँ दुनिया को यह पता है मगर ,
मैं अपने हाथों में हर वक़्त क्यों किताब रखूँ ?
मुझे पसंद है दिन में भी तीरगी ही वले ,
तो क्यों मैं रात उठा सिर पे आफ़्ताब रखूँ ?
मैं इक नज़ीर हूँ दुनिया में मुफ़्लिसी की बड़ी ,
मुझे क्या हक़ है कि आँखों में फिर भी ख़्वाब रखूँ ?
वो मुझको चाहे न चाहे ये उसकी मर्ज़ी अरे ,
मैं उसको कितना करूँ प्यार क्यों हिसाब रखूँ ?
वो मुझको क़तरा भी रखता नहीं है देने कभी ,
मैं उसको सौंपने हर वक़्त क्यों तलाब रख़ूँ ?
तरसता है वो मेरे मैं भी उसके दीद को फिर ,
मिले कहीं वो मैं चेहरे पे क्यों हिजाब रखूँ ?
[ आब = जल // उम्मी = अनपढ़ // तीरगी = अंधकार // 
वले = किंतु // आफ़्ताब = सूर्य // नज़ीर = उदाहरण // 
मुफ़्लिसी = ग़रीबी // क़तरा = बूँद // दीद = दर्शन // हिजाब = घूँघट ]
-डॉ. हीरालाल प्रजापति