Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Thursday, January 26, 2017

*मुक्त-ग़ज़ल : 224 - मैं इश्क़ में मानूँ



वो दैर जाता कभी दिखे तो कभी हरम को ॥
भुला के आता हूँ मैक़दे में मैं अपने ग़म को ॥
वो मानता कब ख़ुदा किसी को सिवा ख़ुदा के ,
मैं इश्क़ में मानूँ अपना रब अपने ही सनम को ॥
वो रह्म दिल है मैं कैसे मानूँ तरस रहा जब ,
कई ज़मानों से उसके मुझ पर किसी करम को ॥
मैं इंतज़ार उसका करते - करते थका हूँ इतना ,
कि सच लगे है पहुँच न जाऊँ अभी अदम को ॥
हमें मिटाकर मिली मसर्रत उन्हे किलो भर ,
मिली हैं मिटकर के उनसे खुशियाँ टनों से हमको ॥
हमेशा कमज़ोरियों पे उसकी नज़र पड़ी है ,
मेरी निगाहों ने जब भी देखा तो देखा दम को ॥
न होता उससे जो दिल का रिश्ता तो झेलता क्या ,
मैं उसके हँस – हँस के अपने दिल पे किये सितम को ?
जो माँगता हूँ वो दे – दे मुझको मैं मान लूँगा ,
ज़ियादा से भी ज़ियादा तेरे ज़ियादा कम को ॥
( दैर = मंदिर , हरम = मस्जिद , मैक़दे = मदिरालय , अदम = यमलोक )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Post a Comment