Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Saturday, July 30, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 206 - लाशों से शर्मिंदा हूँ ॥



लाशों से शर्मिंदा हूँ ॥
मुर्दों सा जो ज़िंदा हूँ ॥
पर औ पाँव कटे तो क्या ,
ज़ात का एक परिंदा हूँ ॥
बेघर हूँ तो क्या उनके ,
दिल का तो बाशिंदा हूँ ॥
अँधियारा भागे मुझसे ,
ऐसा मैं ताबिंदा हूँ ॥
लगता हूँ साहब जैसा ,
वैसे मैं कारिंदा हूँ ॥
कल मैं उनका माज़ी था ,
कल का आइंदा हूँ ॥
तारीफ़ें सब पीठों पर ,
मुँह पे करता निंदा हूँ ॥
वैसे हूँ जाँबख़्श मगर ,
गाह ब गाह दरिंदा हूँ ॥
( ताबिंदा =चमकने वाला ,कारिंदा = कर्मचारी ,माज़ी = भूतकाल ,आइंदा = भविष्य ,जाँबख़्श = मरने से बचाने वाला ,गाह ब गाह = कभी कभी )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Saturday, July 23, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 205 - दिल लगाने चल पड़ा हूँ मैं ॥


हथेली पर ही सरसों को जमाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
कि बिन पिघलाए पत्थर को बहाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
नहीं हैं आँखें जिसकी और न जिसके कान भी उसको ,
गले को फाड़कर अपने बुलाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
जड़ें अपनी जमाने में जहाँ पे नागफणियाँ भी
उखड़ जाएँ , वहाँ तुलसी उगाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
कहाँ तक हुस्न से उसके बचाऊँ अपनी आँखों को ,
कि आख़िरकार उससे दिल लगाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
जो सुलगा दे नदी को वो उसे ही अपना दिल देगी ,
यही सुनकर समंदर को जलाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
हमेशा आँख में आँसू भरे वो घूमता रहता ,
उसे कर मसख़री थोड़ा हँसाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
दमे आख़िर ज़माने से जो दिल में दफ़्न है इक राज़ ,
उसे इक राज़दाँ को अब बताने चल पड़ा हूँ मैं ॥
न रेगिस्तान में पीने को भी पानी मयस्सर था ,
हुई बरसात तो प्यासा नहाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
बहुत फूलों को सिर ढोया , उठाए नाज़ हसीनों के ,
अब उकताकर पहाड़ों को उठाने चल पड़ा हूँ मैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Tuesday, July 19, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 204 - छटपटाकर रह गया हूँ ॥



मात बच्चों से ही खाकर रह गया हूँ ॥
तिलमिलाकर , छटपटाकर रह गया हूँ ॥
आर्ज़ू तो थी कि सोना ही उठाऊँ ,
हाथ मिट्टी ही उठाकर रह गया हूँ ॥
मोतबर कोई नहीं जब मिल सका तो ,
राज़ सब दिल में दबाकर रह गया हूँ ॥
आँच कुछ माँगी है उसने तापने को ,
ख़ुद को बीड़ी सा जलाकर रह गया हूँ ॥
पूछते थे वो कि मैं क्या हूँ कहूँ क्या ?
आदमी हूँ ये बताकर रह गया हूँ ॥
उस हसीं की इक हँसी पर उम्र भर की ,
मैं कमाई को लुटाकर रह गया हूँ ॥
इस क़दर मुफ़्लिस हूँ मैं जाँ को बचाने ,
भूख में ख़ुद को चबाकर रह गया हूँ ॥
( आर्ज़ू = कामना , मोतबर = विश्वसनीय , हसीं = सुंदर , मुफ़्लिस = ग़रीब )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Sunday, July 17, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 203 - रावण भी रहता है मुझमें !!


तू क्या जाने क्या है मुझमें ?
सिंह है या चूहा है मुझमें !!
इत सीतापति बसते हैं उत ,
रावण भी रहता है मुझमें !!
बूढ़ा हूँ पर सच नटखट सा ,
अब भी इक बच्चा है मुझमें !!
मुझको हँसते कम ही पाना ,
इक चिर दुःख बसता है मुझमें !!
मुँह खोलूँ तो उगलूँ लपटें ,
इक जंगल जलता है मुझमें !!
तू चाहे कुछ वैसा , कुछ –कुछ
मैं चाहूँ वैसा है मुझमें !!
तुझमें सब कुछ चुंबक जैसा ,
कुछ – कुछ लोहा सा है मुझमें !!
तू तज आप कहें सब मुझको ,
इतना कुछ बदला है मुझमें !!
लगता हूँ मधु का कलसा पर ,
विष ही विष सिमटा है मुझमें !!
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Saturday, July 16, 2016

मत हँसें !



[ चित्र google search /http://www.express.co.uk/से साभार ] 
चाहकर भी हो न पाते छरहरे , हम पे क़ुदरत का है ये ज़ुल्मो-सितम ॥ 
हम पे हँसने की जगह करना दुआ , कैसे भी हो ? हो हमारा वज़्न कम ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Friday, July 15, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 852 - दया , करुणा , अहिंसा





हाँ दया , करुणा , अहिंसा का सतत उपदेश दे ॥
किन्तु मत प्रकृति विरोधी रात - दिन उपदेश दे ॥
वृद्ध हो , भूखा हो तेरा दास भी हो तो भी मत ,
घास चरने का कभी भी शेर को आदेश दे  ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति



Wednesday, July 13, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 851 - वक़्त-ए-आख़िर




वक़्त-ए-आख़िर सही रे एक बार ही मुझको , अपने सीने से तू लगा के माफ़ कर देना ॥
मेरी ख़ातिर जो तेरे दिल में मैल तारी है , कर के मुझको हलाल ख़ूँ से साफ़ कर देना ॥
झूठ बदनाम इस क़दर हुआ कि दुनिया को , अब न क़ाबिल बचा हूँ मुँह तलक दिखाने के ।
मुझ सरेआम बेलिबास को चलते-चलते , इक कफ़न जानेजाँ काला लिहाफ़ कर देना ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Tuesday, July 12, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 202 - दीप राग हँसते हैं ॥



लगा के वो मेरी खुशियों में आग हँसते हैं ॥
गिरा के खाई में छुप–छुप के भाग हँसते हैं ॥
पिला के मुझको ज़ह्र मौत की सुला के नींद ,
शराब पी के रात भर वो जाग हँसते हैं ॥
ख़मोश रहके भी डसते हैं और बोलें तो ,
जुबाँ के उनकी काट-काट नाग हँसते हैं ॥
मलार सुनने मचलते हैं कान जब मेरे ,
सुना के मुझको तब वो दीप राग हँसते हैं ॥
बुला के शेर को दावत पे तश्तरी भर-भर ,
परोस ताज़ा घास-पात-साग हँसते हैं ॥
हैं इस क़दर वो दिवाने नुकीले काँटों के ,
उजाड़-उजाड़ के फूलों के बाग हँसते हैं ॥
फ़रिश्ते होते हैं गिरतों को थामने वाले ,
गिरा-गिरा के तो बस लोग-बाग हँसते हैं ॥
( मलार = वर्षा ऋतु के समय गाया जाने वाला राग , मल्हार )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Monday, July 11, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 850 - तन से सब उतार के ॥




[ चित्र google search से साभार ]

कर रहा है स्नान कोई तन से सब उतार के ॥
कोई भी न देखता ये सोच ये विचार के ॥
उसके इस भरोसे को न मार डाल इस तरह ,
झाँक-झाँक के तू गुप्त छिद्र से किवार के ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Wednesday, July 6, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 849 - तुमतुराक़



वस्ल महबूब से होता , नहीं फ़िराक़ होता ॥
इश्क़ मेरा न रोते – रोते यों हलाक होता ॥
गर वो होता ग़रीब या कम-ज-कम उस जैसा ,
बल्कि उससे भी बढ़के मेरा तुमतुराक़ होता ॥
( वस्ल = मिलन , फ़िराक़ = बिछोह , हलाक = हत , तुमतुराक़ = वैभव )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Tuesday, July 5, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 848 - मग़्ज़ , दिल , अक़्ल




मग़्ज़ , दिल , अक़्ल सभी तीन बिछा रक्खे थे ॥
फूल चुन चुन हसीं रंगीन बिछा रक्खे थे ॥
तेरे आने की हर इक राह पे डग डग मैंने ,
अपनी आँखों के दो क़ालीन बिछा रक्खे थे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Monday, July 4, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 201 - सच नहीं अच्छी कहानी चाहिए ॥



बस तुम्हारी मुँहज़ुबानी चाहिए ॥
सच नहीं अच्छी कहानी चाहिए ॥
आख़री ख़्वाहिश _जो मेरी खो गई
फिर से वापस वो जवानी चाहिए ॥
मुझको तालाबों , कुओं , झीलों में भी ,
नदियों के जैसी रवानी चाहिए ॥
लू-लपट ,हिमपात ,फटते मेघ नाँ ,
मुझको सब ऋतुएँ सुहानी चाहिए ॥
याद तो आती है तेरी रोज़ ही ,
तुझको भी तशरीफ़ लानी चाहिए ॥
दे चुका तुझको मैं क्या-क्या तोहफ़े ,
अब मुझे तुझसे निशानी चाहिए ॥
दोस्त दो ,दुश्मन दो लेकिन शर्त है ,
मुझको जानी ,सिर्फ़ जानी चाहिए ॥
प्यास पानी से मेरी बुझती न अब ,
अब मुझे अंगूर-पानी चाहिए ॥
चाहिए हर वक़्त लड़कों को सनम ,
अब न मम्मी ,दादी ,नानी चाहिए ॥
इश्क़ सस्ता हो गया तो क्या हमें ,
कम नहीं क़ीमत लगानी चाहिए ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति