Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Sunday, January 31, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 802 - नग्नाटक ॥


दे चुका जीवन का मैं हर मूल्य हर भाटक ॥
जबकि मुझ पर खुल रहा अब मृत्यु का फाटक ॥
वस्त्र - आभूषण से रहता था लदा कल तक ,
आज गलियों में मैं घूमूँ बनके नग्नाटक ॥
( भाटक=किराया ,फाटक=द्वार ,नग्नाटक=सदा नंगा घूमने वाला साधु )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Wednesday, January 27, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 801 - अमरबूटियाँ



कौन यह जानता नहीं कि काया नश्वर है ?
सबका जीवन यहाँ पे जल का बुलबुला भर है ॥
फिर भी क्यों स्वप्न सँजोता है सदियों सदियों के ,
जैसे आया वो अमरबूटियाँ गुटक कर  है ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Tuesday, January 26, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 800 - ठंडों में गरम कम्बल देना ॥




जब प्यास से गर्मी में तड़पूँ ,
तब शीतल-शीतल जल देना ॥
तुम भेंट के इच्छुक हो तो मुझे ,
ठंडों में गरम कम्बल देना ॥
उपहार वही मन भाता है जो ,
हमको आवश्यक होता है ;
अतएव मेरी तुम चाह समझ -
वह आज नहीं तो कल देना ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Sunday, January 24, 2016

नवगीत : 41 - मैं क्यों कवि बन बैठा ?




कई प्रश्न स्वयं के अनुत्तरित –
इक यह कि मैं क्यों कवि बन बैठा ?
बाहर चहुंदिस वह चकाचौंध ।
आकाश-तड़ित सी महाकौंध ।
प्रत्येक उजालों का रागी ,
जुगनूँ तक पे सब रहे औंध ।
यद्यपि मैं पुजारी था तम का ,
क्या सोच के मैं रवि बन बैठा ?
नकली से सदा अति घृणा रखी ।
परछाईं स्वयं की भी न लखी ।
झूठों से बराबर बैर रहा ,
कभी भूल न पाप की वस्तु चखी ।
क्या घटित हुआ कि मैं जीवित ही ,
कहीं मूर्ति कहीं छवि बन बैठा ?
कब धर्म पे था विश्वास मुझे ?
कब होम-हवन था रास मुझे ?
जप-तप-पूजन लगते थे ढोंग ,
लगते थे व्यर्थ उपवास मुझे ।
क्यों यज्ञ में तेरी सफलता के ,
मैं स्वयं पूर्ण हवि बन बैठा ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Wednesday, January 20, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 799 - क़िस्मत छलेगी प्रिये ॥




 आज फिर मुझको क़िस्मत छलेगी प्रिये ॥
शुष्क वस्त्रों को गीला करेगी प्रिये ॥
भूल मैं जो गया आज छतरी कहीं ,
आज बरसात होकर रहेगी प्रिये ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Sunday, January 17, 2016

मुक्त-ग़ज़ल : 179 - पिलाने का हुनर ॥



प्यास को पानी बग़ैर हमने बुझाने का हुनर ॥
ग़मज़दा रह रह के सीखा मुस्कुराने का हुनर ॥
पाके खो देने के फ़न में सब ही हैं माहिर यहाँ ,
इश्क़ ने हमको बताया खो के पाने का हुनर ॥
सब ही पीते हैं शराबें ढालकर इक जाम में ,
उसने आँखों से दिखाया है पिलाने का हुनर ॥
सब कमाना चाहते हैं हाँ मगर अफ़्सोस ये ,
सब को कब आता है दुनिया में कमाने का हुनर ?
मत कुछ ऐसा कर कि अपने मानकर चल दें बुरा ,
रूठना आसाँ है मुश्किल है मनाने का हुनर ॥
अब मोहब्बत की तिजारत में है लाज़िम सीखना ,
बेवफ़ाओं को तहेदिल से भुलाने का हुनर ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Wednesday, January 13, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 798 - कौआ समझते थे ॥



चंद्रमा को एक जुगनूँ सा समझते थे ॥
श्वेतवर्णी हंस को भँवरा समझते थे ॥
आज जाना जब हुआ वो दूर हमसे सच ,
स्वर्ण-मृग को हम गधे कौआ समझते थे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Tuesday, January 12, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 797 - चलने की तैयारियाँ ॥



ख़ुद ख़रीदी हैं जाँसोज़ बीमारियाँ ॥
हो रहीं पुख्ता चलने की तैयारियाँ ॥
तब पता ये चला फुँक चुका जब जिगर ,
जाँ की क़ीमत पे कीं हमने मैख़्वारियाँ ॥
( जाँसोज़=जाँ को जलाने वाली ,मैख़्वारियाँ=शराबखोरी )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Monday, January 4, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 178 - नाच मटक-टूट गए ॥



तुम जनाज़ों को काँधा देते सटक-टूट गए ॥
हम बरातों में नाच-नाच मटक-टूट गए ॥
हम जो लोहे से भी मज़बूत थे शीशे की तरह ,
तेरे जाने के बाद फूट चटक-टूट गए ॥
रहनुमाई में तेरी मंज़िलें फ़तह कीं सभी ,
अपनी अगुवाई में सब भूल भटक-टूट गए ॥
भूलकर भी जो न बीमार हुए इक तरफ़ा ,
इश्क़ में पड़ के बुरी तरह झटक-टूट गए ॥
अपनी औलाद से अपने ही लिए सुन गाली ,
सर को पत्थर पे नारियल सा पटक-टूट गए ॥
पूरा हाथी निकालने तलक सलामत थे ,
इक अकेली क्या गई पूँछ अटक-टूट गए ॥
पैर धरती पे कहीं रखने जब मिली न जगह ,
लोग चमगादड़ों के जैसे लटक-टूट गए ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Sunday, January 3, 2016

*मुक्त-ग़ज़ल : 177 - छूट-छूट के ॥

      

     दिल में जो मेरे ग़म भरा है
     कूट-कूट के
     रो-रो उसे निकाल दूँगा
     फूट-फूट के
     मेरा तो क्या किसी का हो
     सके न जो कभी ,
     मेरा उसी से दिल लगा रे
     टूट-टूट के
     हाथ आए थे मुश्किल से जो सब
     मुझको काट-काट ,
     वो फड़फड़ा उड़े रे तोते
     छूट-छूट के
     जो-जो जमा किया था बैरी
     सब तो ले गया ,
     कुछ माँग-माँग के तो कुछ को
     लूट-लूट के
     मत पूछ जबसे मैं जुड़ा हूँ उससे
     किस क़दर ,
     करता हूँ एक तरफ़ा प्यार
     टूट-टूट के ?
     कब तक जिऊँगा मैं जो रोज़-
     रोज़ आएगी ,
     याद उसकी मेरे दिल का गला
     घूट-घूट के ?

   -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Friday, January 1, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 796 - उड़ते अपनी शान से ॥



आस्माँ पर सब परिंदे 
उड़ते अपनी शान से ॥
मछलियाँ पानी में तैरें 
इक अलग ही आन से ॥
दौड़ें , कूदें , नृत्य भी हैं 
केंचुवी इंसान के ,
चल सकेगा क्या कभी ये
 पूरे इत्मीनान से ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति