Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Thursday, October 29, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 776 - दलदल में धँस रहा ॥

वो जानबूझ कर के ही दलदल में धँस रहा ॥
मर्ज़ी से अपनी काँटों के जंगल में फँस रहा ॥
इस धँसने और फँसने से होगा उसे ज़रूर -
कुछ फ़ायदा तभी तो दर्द में भी हँस रहा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, October 25, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 775 - चूहे की दुम

कर दोगे मुँह से शेर के चूहे की दुम उसे ॥
होशो - हवास लूट के कर दोगे गुम उसे ॥
इक बार ही बस सिर्फ़ोसिर्फ़ एक बार ही ,
बेपर्दा अपना हुस्न अगर दिखा दो तुम उसे ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, October 24, 2015

नवगीत : 38 - सुए से फोड़ लें आँखें ?

जो पढ़ना चाहते हैं वैसा क्यों लिखता नहीं कोई ?
जो तकना चाहते हैं वैसा क्यों दिखता नहीं कोई ?
कि पढ़ना छोड़ ही दें या सुए से फोड़ लें आँखें ?
कोई अपनों में दिखता ही नहीं मन मोहने वाला ,
कोई मिलता नहीं पूरा हृदय को सोहने वाला ,
करें क्या शत्रु को मन भेंट दे दें , जोड़ लें आँखें ?
नहीं लगता असाधारण हमें क्यों उसका अब व्यक्तित्व ?
कड़ा संघर्ष कर जिस पर स्थापित कल किया स्वामित्व ,
दरस को जिसके मरते थे लगे अब मोड़ लें आँखें ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Friday, October 23, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 774 - राह के क़ालीन

आशिक़ो-महबूब भी फटके न फिर उसके क़रीब ॥
हो गया जब शाह से वह माँगता-फिरता ग़रीब ॥
जो हुआ करते थे उसकी राह के क़ालीन सब ,
वक़्ते-आख़िर पास में उसके न दिक्खे वो हबीब ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, October 22, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 773 - साफ़-सुथरे ख़्वाब

सुधारता रहूँगा भूल पर मैं भूल अपनी ॥
न पड़ने दूँगा आँख में घुमड़ती धूल अपनी ॥
रखूँगा साफ़-सुथरे ख़्वाब हमेशा ज़िंदा ,
न होने दूँगा तमन्ना कभी फिज़ूल अपनी ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, October 20, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 772 - अति लघुकथा

इक कविता महाकाव्य अनायास बन गई ॥
अति लघुकथा वृहदतर उपन्यास बन गई ॥
इच्छा तो सत्य तृप्ति की थी एक बूँद से ,
करता क्या जब तृषा ही मृग की प्यास बन गई ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Monday, October 19, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 771 - लबालब ग़ुरूर था ॥

सच था कि झूठ इसपे
ग़ुमाँ तो ज़ुरूर था ॥
मेरा है तू ये मुझमें
लबालब ग़ुरूर था ॥
आँखें खुलीं तो आस्माँ से
औंधा गिर पड़ा ,
खाली हुआ जो मुझमें
छलकता सुरूर था ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Friday, October 16, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 770 - चमचम अमीराना ॥

दरो-दीवार चाँदी की हों ,छत सोने मढ़ी माना ॥
भले रिसता हो कोने-कोने से चमचम अमीराना ॥
जहाँ के सुन लतीफ़े ,मसख़रे तक कर भी बाशिंदे -
नहीं हँसते , उसे मैं घर नहीं ; बोलूँ अज़ाख़ाना ॥
( अमीराना=धनाढ्यता ,लतीफ़े=चुट्कुले ,मसख़रे=विदूषक ,तक=देख ,बाशिंदे=निवासी ,अज़ाख़ाना=शोक गृह )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, October 11, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 769 - ज़िंदगी काफ़ूर सी.....

आस्माँ से गोल पत्थर जैसी गिरती है ॥
फ़र्श पर बोतल के टुकड़ों सी बिखरती है ॥
पूछते हो तो सुनो सच आजकल अपनी
ज़िंदगी काफ़ूर सी उड़ती गुजरती है ॥
( काफ़ूर = कपूर )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Saturday, October 10, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 768 - अब तो लाज़िम है.....

सर्द तनहाई से क्या गर्मागर्म महफ़िल से ॥
क्या तलातुम से और क्या पुरसुकून साहिल से ॥
अब तो लाज़िम है , नागुज़ीर है , ज़रूरी है –
घर से क्या तुझको अभी मैं निकाल दूँ दिल से ॥
( सर्द तनहाई=ठंडा एकान्त ,महफ़िल=सभा ,तलातुम=बाढ़ ,पुरसुकून साहिल=शांत किनारा , लाज़िम,नागुज़ीर,ज़रूरी=अनिवार्य )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति