Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Saturday, February 28, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 676 - आती हो बिन झझक क्यों ?


चुप - चाप नहीं कंगन -
 पायल बजा - बजा के ॥
आती हो बिन झझक क्यों ?
आती नहीं लजा के ॥
क्या चाहती हो मुझसे ?
क्यों बार - बार मेरे -
एकांत में स्वयं को 
लाती हो तुम सजा के ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, February 26, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 675 - न दिल अब निगोड़ा..........


न दिल अब निगोड़ा यहाँ लग रहा है ॥
न इतना भी थोड़ा वहाँ लग रहा है ॥
चले क्या गए ज़िंदगी से वो मेरी –
मुझे सूना-सूना जहाँ लग रहा है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Tuesday, February 24, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 674 - तेरे जलवों की..........


नहीं मेरे अकेले की 
ये लाखों की 
हजारों की ॥
तेरे जलवों की 
तेरे दीद की 
तेरे नज़ारों की ॥
बख़ूबी जानते हैं 
तू कभी आया 
न आएगा ,
सभी को है मगर 
आदत सी 
तेरे इंतज़ारों की ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Monday, February 23, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 673 - सरे बज़्म मेरी बाहों में.........


सरे बज़्म मेरी बाहों में 
आकर के झूम ले
तनहाई में पकड़ के 
मेरा हाथ घूम ले
बेशक़ ! बशौक़ दे दे फिर
 तू मौत की सज़ा ,
सिर्फ़ एक बार तह-ए-दिल
 से मुझको चूम ले
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, February 22, 2015

नवगीत (28) - आग को पानी कब तक कहलवाओगे ?


पथ में पाटल नहीं ॥ 
पग में चप्पल नहीं ॥ 
मुझको काँटों पे कब तक
यों दौड़ाओगे ?
चाहे जल न सके
पर जलाता रहा ।  
आग से आग जल में
लगाता रहा । 
तुमने जो-जो भी चाहा
वो करता रहा ।
मैं कुओं से मरुस्थल
को भरता रहा ।
यों मैं निर्बल नहीं ॥ 
पर कोई कल नहीं ॥ 
क्या न जीवित पे थोड़ा
तरस खाओगे ?
कंटकित हार को
पुष्पमाला कहा ।
तेरे कहने पे तम को
उजाला कहा ।
झूठ का बोझ अब मुझको
यों लग रहा 
जैसे हिरनी को चट करने
सिंह भग रहा ।
बूंद भर जल नहीं ॥ 
फिर भी मरुथल नहीं ॥ 
आग को पानी कब तक
कहलवाओगे ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, February 21, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 672 - आँखों में मेरी अश्क़ का....


आँखों में मेरी अश्क़ का दरिया भरा रहा
ग़म का बग़ीचा दिल का हमेशा हरा रहा
चाहा था ज़िंदगी गुज़ारूँ हँसके मगर हाय !
ज़िंदा रहा मैं जब तलक मरा–मरा रहा
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Friday, February 20, 2015

मुक्तक : चुप्पी-ख़ामोशी-सन्नाटे............


क्या ये चुप्पी-ख़ामोशी-सन्नाटे 
बात में बदलेंगे ?
क्या ये मौत-क़यामत आख़िर 
जीस्त-हयात में बदलेंगे ?
क्या मेरा फ़ौलाद-सब्र भी 
बच पाएगा गलने से ?
क्या वह दिन आएगा जिस दिन 
ये दिन रात में बदलेंगे ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, February 19, 2015

नवगीत (27) - वह मेरे दिल के क़रीब है ॥


बेशक़ ! यह लगता अजीब है ॥
वह करता है अपने मन की ।
कुछ कहते हैं उसको सनकी ,
कुछ उसको धुर सिड़ी पुकारें –
वह मेरे दिल के क़रीब है ॥
नज़्म रईसाना सब उसकी ।
ग़ज़ल अमीराना सब उसकी ।
वह अदीब लिखता दौलत पर –
मगर निहायत ही ग़रीब है ॥
सारे ही हथियार पकड़ता ।
जान हथेली पर ले लड़ता ।
लेकिन जीत कभी ना पाता –
दुश्मन जो उसका नसीब है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Wednesday, February 18, 2015

नवगीत (26) - अब न पथ में डाल बाधा ॥


अब न पथ में डाल बाधा ॥
ओखली में सिर न धरता ।
मूसलों से यदि मैं डरता ।
हो रहा है धीरे - धीरे ।
मेरा पूरा काम आधा ॥
उसको रटता हूँ मैं आकुल ।
मुझको वह दिन-रात व्याकुल ।
बन रहा मैं श्याम उसका –
हो रही वो मेरी राधा ॥
जो किसी तक आ सका ना ।
कोई जिसको पा सका ना ।
जाने कैसे ? किन्तु मैंने
सच असंभव देव साधा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, February 17, 2015

नवगीत (25) - तुझको मैं ना पा सका कमबख़्त था ॥


तेरी पाकीज़ा मोहब्बत का मेरे –
पास हरदम ख़ास ताज-ओ-तख़्त था ॥
मरके भी करता रहा मुझको मोहब्बत बेपनाह ।
आग में जलते हुए भरता रहा तू सर्द आह ।
जानता था जबकि तू कुछ भी कहे बिन मर गया -
तुझको मेरी ही ज़रूरत, तुझको थी मेरी ही चाह ।
कुछ मेरी गफ़लत थी कुछ मेरा गुनह –
तुझको मैं ना पा सका कमबख़्त था ॥
जबकि कहने के लिए घुटता रहा दिन और रात ।
चाहकर भी कह न पाया था तू अपने दिल की बात ।
तू सुनाने के लिए बेचैन रहता था मगर
मैंने कहने का तुझे मौक़ा दिया कब ताहयात ?
जाने क्यों लेकिन हक़ीक़त में तेरे –
साथ में मेरा रवैया सख़्त था ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, February 15, 2015

*मुक्त-मुक्तक : खेल खेल है इसको खेल ही रहने दो ॥


भावों के आवेश में भरकर बहने दो ॥
जिसको जो कहना है जीभर कहने दो ॥
क्रीड़ांगन को मत रणक्षेत्र बनाओ तुम ,
खेल खेल है इसको खेल ही रहने दो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, February 14, 2015

नवगीत (24) - माना है आज प्रेम - दिवस तो मैं क्या करूँ ?


माना है आज प्रेम - दिवस
तो मैं क्या करूँ ?
करता नहीं है कोई मुझसे
प्यार अभी तक ।
मैं भी नहीं किसी का
तलबगार अभी तक ।
ना मैं किसी का रास्ता
देखूँ नज़र बिछा –
ना है किसी को मेरा
इंतज़ार अभी तक ।
फिर किसलिए मनाऊँ जश्न
नाचता फिरूँ ?
ना आए उसका इंतज़ार
मेरी नज़र में ।
नादानी है इक तरफ़ा -
प्यार मेरी नज़र में ।
जिसका न अपना होना तय है
उसके वास्ते –
दिन – रात रहना
बेक़रार मेरी नज़र में ।
कोई मुझपे जब मरे न
मैं भी उसपे क्यों मरूँ ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Friday, February 13, 2015

नवगीत : (23) - चिट्ठी भर लिखते रहते थे ॥


सुख-दुख सारे डूब-उतरकर
सब मन ही मन सहते थे ॥
प्रेम-बाढ़ में हंस-बतख से
दोनों सँग-सँग बहते थे ॥
मोबाइल का दौर नहीं था ।
मिलने का भी ठौर नहीं था ।
दिल की बातों को कहने का -
चारा कोई और नहीं था ।
इक-दूजे को चिट्ठी पर
चिट्ठी भर लिखते रहते थे ॥
ध्वनि का कोई काम नहीं था ।
जिह्वा का तो नाम नहीं था ।
भावों का सम्पूर्ण प्रकाशन –
गुपचुप था कोहराम नहीं था ।
आँखों के संकेतों से सब
अपने मन की कहते थे ॥
मिलते थे पर निकट न आते ।
वृक्ष-लता से लिपट न जाते ।
यदि पकड़े जाते तो सोचो –
जग से दण्ड विकट न पाते ?
इक-दूजे को दृष्टिकरों से
बिन छूकर ही गहते थे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, February 12, 2015

नवगीत (22) - मन विक्षिप्त है मेरा जाने क्या कर जाऊँ ?


मन विक्षिप्त है मेरा 
जाने क्या कर जाऊँ ?
बिच्छू को लेकर 
जिह्वा पर चलने वाला ।
नागिन को मुँह से झट
 वश में करने वाला ।
आज केंचुए से भी मैं
 क्यों डर-डर जाऊँ ?
कुछ भी हो नयनों से 
मेरे नीर न बहते ।
यों ही तो पत्थर मुझको
 सब लोग न कहते ।
किस कारण फिर आज
 आँख मैं भर-भर जाऊँ ?
सच जैसे टपका हो 
मधु खट्टी कैरी से ।
अचरज ! पाया स्नेह- 
निमंत्रण जो बैरी से ।
हाँ ! जाना तो नहीं 
चाहता हूँ पर जाऊँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति  

Wednesday, February 11, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 671 - प्रेम-पंक में.......


उसके रूप-जाल में मन फिर 
फँसता ही जाता
प्रेम-पंक में हृदय कंठ तक 
धँसता ही जाता
श्वेत मोगरों, लाल गुलाबों, 
पीले चंपों सा –
मुझसे जब वह मिलता औ खिल 
हँसता ही जाता
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, February 10, 2015

*मुक्त-मुक्तक : बाज नतमस्तक.......

एक चींटी से हुआ हाथी धराशायी ॥
शेर को चूहे ने मिट्टी-धूल चटवायी ॥
हारकर ख़रगोश लज्जित मंद कछुए से ,
बाज नतमस्तक चिड़ी की देख ऊँचाई ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Monday, February 9, 2015

159 : मुक्त-ग़ज़ल - ना बने तो मत बना.......


ना बने तो मत बना पर और मत बिगाड़ तू ॥
मत फटे में और टाँग को अड़ा के फाड़ तू ॥
आड़ वाले काम आड़ यदि न मिल सके न कर ,
कुछ भी हो कभी न करना खोलकर किवाड़ तू ॥
बेचकर के घोड़े सो रही हैं भेड़-बकरियाँ ,
और थोड़ी देर मूक रह न सिंह दहाड़ तू ॥
मैंने मरुथलों में फ़सलें रस भरी उगाईं हैं ,
प्यास तू बुझाले चूस किन्तु मत उजाड़ तू ॥
अपनी भूल पे मैं लाज से गड़ा हूँ पहले ही ,
कर कृपा भरी सभा में मत पुनः लताड़ तू ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, February 7, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 670 - झूठे राजा हरिश्चन्द्र


लुंज केंचुए मेनकाओं को नृत्य सिखाते हैं ॥
झूठे राजा हरिश्चन्द्र को सत्य सिखाते हैं ॥
सूरदास इस नगर के वितरित करते-फिरते दृग ,
सदगृहस्थ को अविवाहित दांपत्य सिखाते हैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Friday, February 6, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 669 - मुझमें क्या ख़ास है......


मुझपे क़ुर्बान है सौ-सौ दफ़ा फ़िदाई है ॥
मुझसे कौए से हंसिनी को आश्नाई है ॥
मुझमें क्या ख़ास है मुझको नहीं पता सचमुच ,
इतना तै है मेरी तक़दीर करिश्माई है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, February 5, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 668 - व्यक्ति अब लगभग.......


भावना की दृष्टि से अध-मृत हुए हैं ॥
व्यक्ति अब लगभग मशीनीकृत हुए हैं ॥
जन्म के कुछ एक नाते छोड़ सचमुच ,
स्वार्थ पर संबंध सब आधृत हुए हैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Wednesday, February 4, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 667 - पैर तुड़वाकर भी बस चलते रहे


पैर तुड़वाकर भी बस चलते रहे ॥
तेल-बाती ख़त्म कर जलते रहे ॥
तेरी मर्ज़ी ,आग तेरी ,तेरे साँचे ,
लोह से हम मोम बन ढलते रहे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, February 3, 2015

नवगीत (21) - मुझको मेरा लखनऊ दिल्ली


भूल विदूषक की भी हँसकर ,
मित्र उड़ाओ मत तुम खिल्ली ॥
सोची-समझी , देखी-परखी ।
मैंने तब जाकर है रक्खी ।
काली ,काली नागिन जैसी –
चूहे की रक्षा को बिल्ली ॥
तेरा तुझको श्याम श्वेत है ।
मेरा गमला मुझे खेत है ।
तुझको तेरी चींटी बिच्छू –
मुझको साँप है मेरी इल्ली ॥
माना तेरा नगर नियारा ।
मुझको मेरा गाँव पियारा ।
तेरी दिल्ली तो दिल्ली है –
मुझको मेरा लखनऊ दिल्ली ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, February 1, 2015

नवगीत (20) - ठेस यदि मन को लगी.....


सत्य कहता हूँ उठाकर प्राणप्रिय की मैं शपथ –
ठेस यदि मन को लगी मेरी मरन हो जाएगी ॥
पीट लो जी चाहे जितना चर्म-कोड़ों से ।
फोड़ दो सर मोटे डंडों से या रोड़ो से ।
ऊँचे-ऊँचे पर्वतों से मुझको फिंकवा दो ,
रौंदवा दो बैलगाड़ी अथवा घोड़ों से ।
मेरे तन की वज्रता की देखलो करके परख –
मुझको कायागत हर इक पीड़ा सहन हो जाएगी ॥
तुझको हँसता देख होता हूँ सुखी मन में ।
तुझको रोता पाऊँ तो होता दुखी मन में ।
मैं हँसा करता सदा तुझको हँसाने को ,
कस-दबाकर कष्ट के ज्वालामुखी मन में ।
मुझको ठुकरा दे न होगा कोई पछतावा न दुख –
और को अपनाएगी तो फिर जलन हो जाएगी ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति