Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Friday, January 31, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 462 - कर लूँ गुनाह मैं भी..................


कर लूँ गुनाह मैं भी अगर कुछ मज़ा मिले ॥
फिर उसमें भी हो लुत्फ़ जो मुझको सज़ा मिले ॥
यों ही मैं क्यों करूँ कोई क़ुसूर कि जिसमें ,
बेसाख्ता हों होश फ़ाख्ता क़ज़ा मिले ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, January 30, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 461 - इक भी बेदिल से नहीं...............


इक भी बेदिल से नहीं सब ही रज़ा कर लिखिये ॥
लफ़्ज़-दर-लफ़्ज़ समझ-सोच-बजा कर लिखिये ॥
डायरी ख़ुद की कभी आम भी हो सकती है ,
दिल के जज़्बात शायरी में सजा कर लिखिये ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Wednesday, January 29, 2014

मज़्नूँ होने वाले हैं ॥






तुझ यादों में 
रह-रह ,रुक-रुक ,
हँस-हँस रोने वाले हैं ॥
शब-शब ,पल-पल 
करवट ले-ले 
जग-जग सोने वाले हैं ॥
हममें कितनी 
दिलचस्पी तू 
जाने रखती है पर हम ,
तुझको अपनी 
लैला माने 
मज़्नूँ होने वाले हैं ॥


-डॉ. हीरालाल प्रजापति

115 : मुक्त-ग़ज़ल - आज तो कुछ भी नहीं.................


आज तो कुछ भी नहीं मुझसे छिपाया जायेगा ॥
बोझ राज़-ए-दिल का अब न और उठाया जायेगा ॥
मैं तमन्नाई नहीं राहें मेरी हों फूलों की ,
फिर भी बिन जूतों के काँटों पे न जाया जायेगा ॥
हाथ न जोड़े कभी जिसने ख़ुदा के सामने ,
उस से क्या आदम के दर पर सर झुकाया जायेगा ?
ख़ूबरू न नौजवाँ , न नामचीं , न रईस मैं ,
किस बिना पर उस हसीं का दिल चुराया जायेगा ?
बस यूँ ही करले यकीं दिल में तेरी तस्वीर है ,
चीर कर दिल को भला कैसे दिखाया जायेगा ?
मुल्क़ से बेरोज़गारी में ये हिज़रत के ख़याल !
प्यार यूँ कब तक वतन से रह निभाया जायेगा ?
भैंस से लेने चले हो दाद तुम भी बीन की ,
स्वाद क्या अदरख का बंदर से बताया जायेगा ?
मर चुका था वो तो अंदर से बहुत पहले मगर ,
आज दम निकला है उसका अब जलाया जायेगा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, January 28, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 460 - मैं बेक़सूर हूँ मैं ..............


मैं बेक़सूर हूँ मैं गुनहगार नहीं हूँ ॥
हरगिज़ किसी सज़ा का मैं हक़दार नहीं हूँ ॥
चुभते हों जिनको फूल उनकी नाजुकी ग़लत ,
मैं नर्म-नर्म गुल हूँ कड़क ख़ार नहीं हूँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 459 - आबे ज़मज़म समझ के............


आबे ज़मज़म समझ के जह्र पिये जाता हूँ ॥

बस ख़ुदा तेरी ही दम पे मैं जिये जाता हूँ ॥

ज़िंदगी यूँ तो है दुश्वार मेरी सख़्त से सख़्त ,

नाम रट-रट के तेरा सह्ल किये जाता हूँ 
( सह्ल = सरल , सुगम , आसान )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, January 26, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 458 - बहुत सी पास में खुशियाँ............


बहुत सी पास में खुशियाँ हों या इफ़्रात में ग़म-वम ,
कि रेगिस्तान हो दिल में या क़ामिल आब-ए-ज़मज़म ,
तज़ुर्बा है मेरा ज़ाती ये ज़ाती सोच है मेरी -
कि शायर की क़लम में तब ही आ पाता है दम-ख़म ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 457 - और भी ज़्यादा निगाहों..........


और भी ज़्यादा निगाहों में लगो छाने ॥
दिल मचल उठता है तब तो और भी आने ॥
जब भी ये लगता है लगने मुझको शिद्दत से ,
अजनबी हो तुम , पराये तुम , हो बेगाने ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, January 25, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 456 - हिमाक़त ऐसी तनहाई में................


हिमाक़त ऐसी तनहाई में बारंबार कर बैठो ॥
मेरा तब सिर से लेकर पैर तक दीदार कर बैठो ॥
कभी मैं हुस्न जब भी बेख़बर सो जाऊँ बेपर्दा ,
तुम आकर इश्क़ फ़ौरन बेइजाज़त प्यार कर बैठो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Friday, January 24, 2014

114 : मुक्त-ग़ज़ल - चाहता हूँ कि ग़म में भी..............


चाहता हूँ कि ग़म में भी रोओ न तुम ॥
पर ख़ुशी में भी बेफ़िक्र होओ न तुम ॥
कुछ तो काँटे भी रखते हैं माक़ूलियत ,
फूल ही फूल खेतों में बोओ न तुम ॥
रोज़ लुटता है आँखों से काजल यहाँ ,
इस जगह बेख़बर होके सोओ न तुम ॥
जिससे तुम हो उसी से हैं सब ग़मज़दा ,
फिर अकेले अकेले ही रोओ न तुम ॥
जिसने तुमको जुबां से भुला रख दिया ,
उसकी यादों में आकण्ठ खोओ न तुम ॥
माना दुश्मन का है , है मगर हार ये ,
इसमें काँटे नुकीले पिरोओ न तुम ॥
दब ही जाओ , कुचल जाओ , मर जाओ तुम ,
बोझ ढोओ पर इतना भी ढोओ न तुम ॥
लोग चलनी ही हमको समझने लगें ,
इतने भी हममें नश्तर चुभोओ न तुम ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, January 23, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 455 - कैसी-कैसी मीठी-मीठी...............


कैसी-कैसी मीठी-मीठी प्यारी-प्यारी करती थी ॥
क्या दिन-दिन क्या रात-रात भर ढेरों-सारी करती थी ॥
मेरी तरफ़ मुखातिब होना तक न गवारा आज उसे ,
जो मुझसे जज़्बात की बातें भारी-भारी करती थी ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 454 - बेशक़ दिखने में मैं नाजुक............


बेशक़ दिखने में मैं नाजुक-चिकनी-गोरी-चिट्टी हूँ ॥
लेकिन ये हरगिज़ मत समझो नर्म-भुरभुरी-मिट्टी हूँ ॥
चाहो तो दिन-रात देखलो मुझपे करके बारिश तुम ,
मैं न गलूँगी क़सम तुम्हारी ! अंदर से मैं गिट्टी हूँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Wednesday, January 22, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 453 - सितमगर की वो कब................


सितमगर की वो कब आकर के करता है गिरफ़्तारी ?
कहे से और उल्टे उसकी करता है तरफ़दारी ॥
वो थानेदार बस चेहरे से है ईमान का पुतला ,
निभाकर फ़र्ज़ न अपना यों करता है सितमगारी ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, January 21, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 452 - रहूँ प्यासा गुलू में...................


रहूँ प्यासा गुलू में चाहे क़तरा आब न जाये ॥
तुम्हारे इश्क़ में जलने की मेरी ताब न जाये ॥
नहीं क़ाबिल मैं हरगिज़ भी तुम्हारे पर दुआ इतनी ,
तुम्हें पाने का आँखों से कभी भी ख़्वाब न जाये ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Monday, January 20, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 451 - बेवजह वो मुझसे..................


बेवजह वो मुझसे बरहम हो रही है ॥
हर मसर्रत मेरी मातम हो रही है ॥
कर रही है जिस तरह वो बदसुलूकी,
रफ़्ता-रफ़्ता ज़िंदगी कम हो रही है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, January 19, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 450 -न जाने क्यों ख़ामोशी भी................


न जाने क्यों ख़ामोशी भी शोर-शराबा लगती है ?
मरहम-पट्टी-ख़िदमतगारी ख़ून-खराबा लगती है ॥
ख़ुद का जंगल उनको शाही-बाग़ से बढ़कर लगता है ,
मेरी बगिया नागफणी का सह्रा-गाबा लगती है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

113 : मुक्त-ग़ज़ल - सूर्य सा उनको................


सूर्य सा उनको जगमगाने दो ॥
दीप सा हमको टिमटिमाने दो ॥
रू हमारा बिगड़ गया यारों ,
आइने घर के सब हटाने दो ॥
जह्र यूँ ही तो हम न खाएँगे ,
पहले मरने के कुछ बहाने दो ॥
आज बर्बाद है हुआ दुश्मन ,
जश्न जमकर बड़ा मनाने दो ॥
दर्दे दिल कोई फिर उभरता है ,
हमको जी भर के रोने गाने दो ॥
हमको रहना नहीं है जन्नत में,
आपके दिल में घर बनाने दो ॥
ख़ून हमारा अगर सफ़ेद हुआ ,
उसको नाली में झट बहाने दो ॥
वो जो सोये हैं खोलकर आँखें ,
उनको झकझोर कर जगाने दो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, January 18, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 449 - वो ज़माने गये जो थे.................


वो ज़माने गये जो थे किसी ज़माने में ॥
लोग महबूब को थकते न थे मनाने में ॥
सख़्त जोखिम भरी है आज रूठने की अदा ,
यार लग जाएँ नये यार झट बनाने में ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Friday, January 17, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 448 - आज राजा के जैसा............


आज राजा के जैसा मुझको रंक लगता है ॥
पाँव चींटे का भी मराल-पंख लगता है ॥
इतना हर्षित हूँ काँव-काँव कुहुक लगती है ,
रेंकना गदहों का मंदिर का शंख लगता है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 447 - सोने-चाँदी के जो...................


सोने-चाँदी के जो क़ाबिल हैं ; हैं जो मतवाले ॥
कोयले उनको मिले लोहे भी धूसर काले ॥
है ये क़िस्मत भी अजब चीज़ चमेली वाला ,
तेल मल-मल के छछूंदर के मगज पे डाले ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, January 16, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 446 - चाहे वो गंगा का हो.................


चाहे वो गंगा का हो सिंध या चनाब का ॥
इस वक़्त वो प्यासा है तो दरिया के आब का ॥
बेशक़ तड़प तड़प के मर भी जाएगा मगर ,
प्याला नहीं लगाएगा मुँह से शराब का ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Wednesday, January 15, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 445 - क्या फ़ायदा कि चुप हो......................

क्या फ़ायदा कि चुप हो गज भर ज़बान रखकर ?
सुनते नहीं अगर तुम हाथी से कान रखकर ॥
आँखें हैं पर न देखो , सिर धर के गर न सोचो !
फिर तुम तो चलता फिरता मुर्दा हो जान रखकर ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, January 14, 2014

112 : मुक्त-ग़ज़ल - झुकने नहीं मैं टूटने..................


झुकने नहीं मैं टूटने तैयार हूँ जनाब ॥
मग़रूर नहीं थोड़ा सा खुद्दार हूँ जनाब ॥
मंजिल पे भी न आके सफ़र ख़त्म हो मेरा ,
चलने के शौक से बड़ा नाचार हूँ जनाब ॥
मत देखिए चेहरे की चमक मुस्कुराहटें ,
अंदर से टुकड़ा-टुकड़ा हूँ बीमार हूँ जनाब ॥
रहता हूँ इस तरह कि लोग मानते नहीं ,
लेकिन ये सच है फ़ालतू बेकार हूँ जनाब ॥
इक-इक अदा पे आपकी गिनकर बताऊँ क्या ?
मैं इक दफ़ा फ़िदा न सौ-सौ बार हूँ जनाब ॥
कमज़ोरियाँ बदन की लड़खड़ा रहीं मुझे ,
लोगों को मैं पहुँचा हुआ मैख़्वार हूँ जनाब ॥
हों मुझको गिराने के इंतज़ाम बेवजह ,
दिखता खड़ा हूँ अस्ल में मिस्मार हूँ जनाब ॥
खोटा समझ के फेंक न पाओगे मुझको तुम ,
रुपया नहीं हूँ क़ीमती दीनार हूँ जनाब ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 444 - जो कुछ बजा न हो..................


जो कुछ बजा न हो वो भी वाज़िब है बजा है ॥
वो हों तो दर्द लुत्फ़ है ग़म एक मज़ा है ॥
उनके बग़ैर क़ैद है बख़ुदा रिहाई भी ,
इनआम भी जुर्माना है इक सख़्त सज़ा है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 443 - दो घूँट में ही वो...............


दो घूँट में ही वो नशे से रह भटक गये ॥
दो मार के डग बीच में अटक सटक गये ॥
मंजिल पे भी हमें मिली न दौड़ से फुर्सत ,
टाले टले न होश ख़ुम के ख़ुम गटक गये ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, January 12, 2014

*मुक्त-मुक्तक : 442 - यक़ीनन वो नहीं मेरा.................


यक़ीनन वो नहीं मेरा असल मक़सद मेरी मंजिल ॥
न मैं कोई डूबती कश्ती न वो ही नाख़ुदा-साहिल ॥
नहीं होता मुझे बर्दाश्त हरगिज़ भी गुरूर उनका ,
लिहाजा उनको करना है मुझे हर हाल में हासिल ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 441 - तवील बेशक़ न लेक कुछ तो.......


तवील बेशक़ न लेक कुछ तो ज़रा-ज़रा , कम ही कम सुनाने ॥
किये जो मुझ पर जहाँ ने तारी वो सारे गिन-गिन सितम सुनाने ॥
हर एक दर्दआशना जो सुन-सुन न अश्क़ ढा दे अगर तो कहना ,
बुला कभी मुझको अपनी महफ़िल में मेरी रुदाद-ए-ग़म सुनाने ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, January 11, 2014

111 : मुक्त-ग़ज़ल - जो न कह पाया जुबाँ से..............

जो न कह पाया जुबाँ से ख़त में सब लिखना पड़ा रे ॥
अपना इज़हारे-तमन्ना आख़िरश करना पड़ा रे 
इश्क़ के तो मैं हमेशा था ख़िलाफ़ अब क्या कहूँ ? सच ,
उनपे मुझ जैसों को भी देखा तो बस मरना पड़ा रे 
सच की सीढ़ी मुझको कुछ टेढ़ी तो कुछ नीची लगी जब ,
खूब ऊँचा चढ़ने को नीचे बहुत गिरना पड़ा रे 
दुश्मनों से तो लड़ा बेखौफ़ हो ताज़िंदगी मैं ,
आस्तीं के साँपों से पल-पल मुझे डरना पड़ा रे 
क्योंकि वो मेरा था अपना था अज़ीज़ों इसलिए तो ,
उस कमीने उस लफ़ंगे को वली कहना पड़ा रे 
सिर्फ़ औलादों के मुस्तक़्बिल के याँ मद्देनज़र ही ,
दुश्मनों से दोस्ताना उम्र भर रखना पड़ा रे 
दूसरा कोई न मिल पाया तो वो ही काम फिर से ,
जिसको ठोकर पर रखा झक मारकर करना पड़ा रे 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति