Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Sunday, June 30, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 258 - ये उसी की रज़ा.............


ये उसी की रज़ा थी 
इतना क़ामयाब हुआ ॥
सब उसी की दुआ से 
मुझको दस्तयाब हुआ ॥
क्यों मुनादी न करूँ 
जबकि कम ही कोशिश में ,
जिसकी उम्मीद न थी 
सच वो मेरा ख़्वाब हुआ ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 257 - अतिशय विनम्र..............


अतिशय विनम्र था तनिक 
अशिष्ट हो गया ॥
पाकर के उनका प्रेम 
बहुत धृष्ट हो गया ॥
मित्रों में मेरी पूछ-परख 
पहले नहीं थी ,
अब शत्रुओं में भी मैं 
अति-विशिष्ट हो गया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 256 - बात सारी दिल.............


बात सारी दिल की दिल में 
रख न बाहिर कर ॥
दोस्तों में भी कमी 
अपनी न जाहिर कर ॥
नीम रख दिल में मगर 
होठों पे रसगुल्ले ,
काम तो कर बात में भी
 ख़ुद को माहिर कर ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 255 - तलाशे वफ़ा में.................


तलाशे वफ़ा में जो 
हम घर से निकले ॥
हवेली महल झोपड़ी 
देखे किल्ले ॥
वफ़ा आश्नाई में 
इंसाँ से ज़्यादा ,
लगे आगे सच सारे 
कुत्तों के पिल्ले ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, June 22, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 254 - उसमें भरपूर.............


उसमें भरपूर जवानी में भी 
ग़ज़ब बचपन ॥
बाद शादी के भी पैवस्त 
धुर कुंवारापन ॥
उसकी चख़चख़ ग़ज़ल है 
चीख़ कुहुक कोयल की ,
बाद सालों के भी 
लगती है अभी की दुल्हन ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 253 - अरमान धराशायी..........


अरमान धराशायी 
हो जाएँ चाहे सारे ॥
मझधार निगल जाये
 नैया सहित किनारे ॥
फंदा गले में अपने 
हाथों से न डालूँगा ,
तब तक जिऊंगा जब तक
 ख़ुद मौत आ न मारे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

97 : मुक्त-ग़ज़ल - मैं भी अजब............

मैं भी अजब तरह की बुराई में पड़ा हूँ ॥
दुश्मन से मोहब्बत की लड़ाई में पड़ा हूँ ॥
सब छू रहे हैं आस्मान की बुलंदियाँ ,
मैं अब भी तलहटी में तराई में पड़ा हूँ ॥
दिन रात बुरा कहता नहीं थकता जहाँ को ,
है कुछ वजह कि फिर भी ख़ुदाई में पड़ा हूँ ॥
मेरी ख़ता नहीं तेरे धक्कों के करम से ,
गड्ढों में पड़ा हूँ कभी खाई में पड़ा हूँ ॥
लू न लगे इस वास्ते चादर की कमी से ,
मैं जेठ की दोपहर रज़ाई में पड़ा हूँ

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Friday, June 21, 2013

96 : मुक्त-ग़ज़ल - उसको फँसा के..............

उसको फँसा के ख़ुद को तुमने छुड़ा लिया है ॥
अच्छा किया है तुमने जो भी बुरा किया है ॥
कुछ बात तो है वरना यूँ ही नहीं शहर का ,
हर शख़्स आप ही पर उँगली उठा रहा है ॥
मजदूर के पसीने की खूँ की क्यों हो क़ीमत ,
वो ख़ुद ही मानता है पानी बहा रहा है ॥
पुरनम नहीं हैं आँखें पर ग़मज़दा हैं दोनों ,
इक अश्क़ पी गया है इक अश्क़ ढा चुका है ॥
मंजिल न थी ये मेरी न मैं हूँ भी इसके क़ाबिल ,
ये मुक़ाम मैंने अपनी क़िस्मत से पा लिया है ॥
सब जानते हैं अच्छा क्या और बुरा क्या है ,
करते हैं सब बुरा तब जब दिखता फ़ायदा है ॥
शहरों में ही नहीं है माहौल शोरगुल का ,
गाँवों में भी तो हल्ला-गुल्ला मचा हुआ है ॥
राहों के धुप अँधेरों और तेज़तर हवा में ,
टिकती नहीं मशालें ये चिराग़ चीज़ क्या है ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, June 11, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 252 - सब हुए अत्याधुनिक.......


सब हुए अत्याधुनिक तू 
अब भी दकियानूस क्यों ?
सबकी चालें हिरणो चीती 
तेरी अब भी मूस क्यों ?
न सही अंदर से ऊपर 
से तो दिख शहरी यहाँ ,
सब हैं अप-टू-डेट इक 
तू ही मिसाले हूश क्यों ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Monday, June 10, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 251 - क्यों दूर की.............


क्यों दूर की बुलंदी
दिखती खाई पास से ॥
क्यों क़हक़हों से बाँस 
सुबकते हैं घास से ॥
क्या यक-ब-यक हुआ कि
 तमन्नाई खुशी के ,
मिलते ही खुशी हो रहे 
उदास उदास से ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 250 - सीधी नहीं.................


सीधी नहीं मुझे प्रायः 
विपरीत दिशा भाये ॥
मैं चमगादड़ नहीं किन्तु सच 
अमा निशा भाये ॥
क्यों संतुष्ट तृप्त अपने 
परिवेश परिस्थिति से ?
मुझको कदाचित नीर मध्य 
मृगमार तृषा भाये ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, June 9, 2013

95 : ग़ज़ल - मुक्त-पक्की कसौटियों पे......


पक्की कसौटियों पे न कस कर के देखना ॥
हमको परखना हो तो हँस हँस कर के देखना ॥
बचपन से शब-ओ-रोज़ जहर पीते आए हैं ,
ना एतबार आए तो डस कर के देखना ॥
न तू है अलादीन न इसमें है कोई जिन्न ,
नाहक है इस चराग़ को घस कर के देखना ॥
सूरज के उजालों में तो चंदा भी बुझा है ,
जुगनूँ की चकाचौंध तमस कर के देखना ॥
रहते हैं चुप पर आता है हमको भी बोलना ,
चाहो मुबाहसा-ओ-बहस कर के देखना ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

*मुक्त-मुक्तक : 249 - मैंने नापा है...........


मैंने नापा है निगाहों में 
उसकी अपना क़द ॥
एक बिरवे से हो चुका वो 
ताड़ सा बरगद ॥
वो तो कब से मुझे
 मंजिल बनाए बैठा है ,
मुझको भी चाहिए अब 
उसको बना लूँ मक़सद ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, June 8, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 248 - बात बात पर रो............


बात बात पर रो पड़ना 
मेरा किरदार नहीं ॥
जिस्म भले कमजोर रूह 
हरगिज़ बीमार नहीं ॥
बचपन से ही सिर्फ चने 
खाए हैं लोहे के ,
नर्म मुलायम कभी रहा 
अपना आहार नहीं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Friday, June 7, 2013

94 : मुक्त-ग़ज़ल - जब रहता हूँ...........


जब रहता हूँ फुर्सत या बेकार मैं ॥
करता हूँ तब कविताएँ तैयार मैं ॥
जब तक व्यस्त रहूँ मैं स्वस्थ मस्त रहता ,
फुर्सत पाते ही पड़ता बीमार मैं ॥
सपनों में उसके ही डूबा रहता हूँ ,
जिससे करता हूँ इक तरफा प्यार मैं ॥
बूंद न दूँ तालाब नदी को कूप को मैं ,
रेगिस्तानों में करता बौछार मैं ॥
घोर निराशा और हताशा में भी नहीं ,
कट मरने का करता सोच विचार मैं ॥
भीतर से पूरा शहरी हूँ मत मानो ,
यों ऊपर से दिखता ठेठ गँवार मैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक 247 : पीतल के ही..............



पीतल के ही मिलते हैं बमुश्किल खरीददार ॥
इस शह्र में सोने की  मत लगा दुकान यार ॥
असली का तो अब जैसे रहा ही नहीं धंधा ,
नकली का फूल फल रहा हर जगह कारोबार ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Thursday, June 6, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 246 - विष्णु न होकर............

विष्णु न होकर लक्ष्मी की अभिलाषा अनुचित है ।  
राम हो तो सीता का मिलना यत्र सुनिश्चित है –
तत्र सभी अंधों के मन में पलती मात्र बटेर ,
शूर्पनखाओं को केवल लक्ष्मण ही इच्छित है !
 -डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Wednesday, June 5, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 245 - चीख चिल्लाहट है............


चीख चिल्लाहट है कर्कश कान फोड़ू शोर है ॥
इस शहर में एक भागम भाग चारों ओर है ॥
सुख की सारी वस्तुएँ घर घर सहज उपलब्ध हैं ,
किन्तु जिसको देखिये चिंता में रत घनघोर है ॥
डॉ. हीरालाल प्रजापति

*मुक्त-मुक्तक : 244 - अंधों को है...........


अंधों को है गुलजार के 
दीदार का हुकुम ॥
गूँगों के लिए भौंरों सी 
गुंजार का हुकुम ॥
ये उल्टे हुक्मराँ जो 
ठग लुटेरे न्योतते ,
देते हैं निगेहबाँ को 
तड़ीपार का हुकुम ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Tuesday, June 4, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 243 - जिसे मिलना न था.......


जिसे मिलना न था इक बार 
बारंबार पाता है ॥
जो फूटी आँख न भाए 
मेरा दीदार पाता है ॥
करिश्मा उसकी क़िस्मत का
 मेरी तक़्दीर का धोखा ,
वो मेरा क़ाबिले नफ़रत 
मुझी से प्यार पाता है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 242 - खूब उथले हैं...........

खूब उथले हैं खूब गहरों के ॥
दिल हैं काले सभी सुनहरों के ॥
नाक है सूँड जैसी नकटों की ,
कान हाथी से यहाँ बहरों के ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 241 - कोई आशा की...........


कोई आशा की किरण
 सम्मुख न हो ॥
दुःख भरा हो उसमें किंचित 
सुख न हो ॥
कितना भी हो कष्टप्रद जीवन.... 
युवा ,
आत्महत्या को कभी 
उन्मुख न हो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Monday, June 3, 2013

93 : मुक्त-ग़ज़ल - कुछ भी तो..............


कुछ भी यहाँ पे तो नहीं नया दिखाई दे ॥
जो था यहाँ पे वो भी तो गया दिखाई दे ॥
माहौल हर तरफ़ है अफ़रा तफ़री का क़ाबिज़ ,
था जो टहल रहा वो भागता दिखाई दे ॥
बस्ती में डाकुओं को लुटेरों की  है हैरत ,
हर कोई आज भीख माँगता दिखाई दे ॥
उस नाजनीं का मुझको ग़रज़ से रिझाने की  ,
अब भी दुपट्टा गिरता सरकता दिखाई दे ॥
देता था जो वतन पे अपनी जान को कभी ,
शादी के बाद मौत से बचता दिखाई दे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 240 - पढ़ता नहीं कोई..........


पढ़ता नहीं कोई तो भला 
क्यों लिखे कोई ?
अंधे के लिए बन सँवर के
 क्यों रहे कोई ?
होता ज़रूर होगा कुछ तो 
फ़ायदा वरना ,
सुनता न कोई फिर भी अपनी 
क्यों कहे कोई ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Sunday, June 2, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 239 - पेड़ पे लटका.............


पेड़ पे लटका आम 
लगता टपका-टपका सा ॥
आँख फाड़े हुए 
जागूँ मैं झपका-झपका सा ॥
हर्ष-उत्साह से 
अनभिज्ञ निरंतर निश्चित ,
मृत्यु की ओर 
बढ़ रहा हूँ लपका-लपका सा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

*मुक्त-मुक्तक : 238 - बर्फ़ हैं लेकिन..........

बर्फ़ हैं लेकिन हमेशा दिल जला देते हैं वो ॥
पैर बिन ही पुरग़ज़ब ठोकर लगा देते हैं वो ॥
उनका हर इक काम हैरतनाक अजीबोग़रीब है ,
अपनी मासूमी के धोखे से दग़ा देते हैं वो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Saturday, June 1, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 237 - इससे बढ़कर के........


इससे बढ़कर के क्या 
तक़दीर का मज़ाक होगा ॥
आग से बचके वो 
पानी से जल के राख होगा ॥
उसको भरते रहे 
पानी से लबालब हर दिन ,
क्या पता था कि वो 
अंदर शकर या खाक होगा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति